Tuesday, February 26, 2013

देश की अखण्डता एंव प्रभुसत्ता



देश की अखण्डता एंव प्रभुसत्ता को कोई अगर नुकसान पहुॅचाता है तो उस मसले पर सारे देश  को एक होकर देश का साथ देना चाहिए एंव खासतौर पर राजनितिक पार्टीयों को एंव समाजिक कार्यकर्ताओं को एक जुट होकर सरकार का साथ देना चाहिए एंव उनका समर्थन करना चाहिए और आंतकवाद जैसे मुद्दे पर किसी भी राजनेता को राजनीति नही करनी चाहिए हैदराबाद मे हुए बम धमाको के पिछे जिसी किसी भी आंतकी संगठन का हाथ है उसको मुॅह तोड जबाब देना चाहिए एंव आतकियों के लिए सख्त से सख्त कानून बनाना चाहिए। इस पर सरकार को सभी पार्टीयो एंव रक्षा विषेशज्ञो की सर्वदलीय बैठक बूलानी चाहिए और आंतकियो को मुॅहतोड जबाब देना चाहिए ताकि ये लोग देश  की तरफ आॅख उठाकर भी न देख  सके 

Durgesh Ranakoti
Dehradun Uttarakhand

Tuesday, February 12, 2013

विकास की मार झेल रहा है प्रताप नगर एंव टिहरी जिले के आस-पास का क्षेत्र



विकास की मार  झेल रहा है प्रताप नगर एंव टिहरी जिले  के आस-पास का क्षेत्र

2006 में टिहरी बाॅध के बन जाने के बाद -हजयील में पानी भरने के बाद वहाॅ रह रहे आस-पास हजारों लोगों को आवागमन कि समस्या से लोगों का जन जीवन आज 2013 में भी अस्त व्यस्त है वे लोग आज भी 60-70 किलोमीटर की दूरी तय कर अपने आषियानों तक पहुचते हैं।

इस बारे में टिहरी हाइड्रो डवलप्मेन्ट काॅरपोरेषन(टी0एच0डी0सी0) एंव जन प्रतिनिधियो एंव माननीय सांसद को भी केन्द्र सरकार को अवगत कराना चाहिए कि देश  के विकास के लिए जीन लोगो ने अपने खेत खलियान एंव घर तक गवाना पड़ा उन लोगों के पुनर्वास एंव समस्यों एंव मुलभूत आवष्यक्ताओं को इन लोगों को अगर स्वास्थ्य समस्याओं के लिए भी देहरादून का मुह ताकना पड़ता है  इतने लम्बे समय तक पूरा न करना क्या कहता है लम्बे समय से सड़क निर्माण हो या पुल सब के सब आज भी निर्माणाधीन है जबकि सरकार को बाॅध निर्माण से पहले इन सब मूलभूत आवष्यकताओं के बारे में सोचना चाहिए था। 

पहले इनको पूरा करना चाहिए था आज देष में कामोबेष हर जगह पूर्नवास एंव विकास की बाट आज भी वो लोग -सजयो रहे है जिन्होने विकास के लिए अपना घर जमीन खेती-बाडी दी है, पुनर्वास एक समस्या है लेकिन सरकार को आम आदमी की मूलभूत समस्याओ को तो पूरा करना चाहिए। 

जबकि माननीय सुप्रीम कोर्ट बार-बार इस सम्बन्ध में दिशा  निर्देश  देता रहता है कि केन्द्र एंव राज्य सरकार को यु़द्व स्तर पर इन लोगों की समस्याओं को सुल्जाना चाहिए था । 


दुर्गेश रणाकोटी 
देहरादून उत्तराखण्ड