Sunday, March 31, 2013

हर साल अरबो रू0 का अनाज सड जाता है



एक तरफ तो भारत में लाखों लोगों को दो वक्त की रोटी भी नसीब नही हो पाती दूसरी तरफ हर साल अरबो रू0 का अनाज सड जाता है यह कैसी विड़बना है इस देष की एक तरफ लोग भूखे मर रहे है और दूसरी तरफ अरबो रू0 का अनाज सड रहा है

2012 मे सर्वोच्च न्यायालय ने केन्द्र सरकार फटकार भी लगाई थी कि अनाज को सड़ाने की बजाय गरीबो मे मुफ्त में बांट देना चाहिए इस तरह के महत्त्वपूर्ण मसलो पर राजनिति नही होनी चाहिए, ऐसे मसलो पर देषहित सर्वोपरि होना चाहिए

केन्द्र सरकार को सभी राजनितिक पार्टीयो एंव वरिश्ठतम नेताओ की सर्वदलीय बैठक बुलाकर अनाज को गरीबो मे मुफ्त में बटवा देना चाहिए ताकि अनाज सडने से भी बच जाये और गरीबो के काम भी आ जाये।

No comments:

Post a Comment