Monday, April 14, 2014

बीजेपी का २७० का आँकड़ा


बीजेपी का २७० का आँकड़ा

चुनाव के बाद इस बार अगर बीजेपी २२० से २७० का ऑकड़ा नहीं छुती है। तो इस चुनाव के बाद इस्पस्ट हो जायेगा की मोदी लहर और आरएसएस का बीजेपी में बार-बार हस्तकछेप बीजेपी को नुकसान के अलावा कुछ और नहीं करपाता है। चाहे पुराने नेताओ की अनदेखी हो या आडवाणी जी को किनारे करने की, क्यूकि संघ की अडवाणी जी के आगे ज्यादा नहीं चलती थी 

 बीजेपी की मात्रसत्तात्मक पार्टी आर0एस0एस0 इस चुनाव में अगर बी0जे0पी0 पूर्ण बहुमत हासिल नही कर सकी तो यह साफ हो जायेगा। कि आर0एस0एस0 कि वजह से पार्टी हर बार गलितीयों को दोहराती है चाहे आड़वाणी जी को दरकिनार करने का मुद्दा हो या फिर नये चेहरे को लाना और गुजरात माॅडल को प्रोजेक्ट करना।

यह बात भाजपा शासित राज्यों में चाहे वह मध्यप्रदेष, गोवा, छत्तीसगढ़,  इन तीनों मुख्यमंत्रीयो के अच्छे काम को सराह कर ही जनता ने इनको दुबारा एंव तीबारा मौका दिया। है।

लम्बे समय से पार्टी की सेवा कर रहे नेताओं की उपेक्षा न हो जिन्होंने पार्टी को अपना सर्वस्व दिया हो, और उनको मौका दिया जाए, दिया हो, और उनको वह मान-सम्मान और पद न मिलना, पार्टी के इतने लम्बे समय से सेवा का फल न मिलना पार्टी के लिए एवं नए नेताओ के लिए सबक है, कि पार्टी ने इस बार मोदी को पार्टी से बड़ा  कद दे दिया जो पार्टी के लिए नुकसान देह हो सकता है


भाजपा अगर सत्ता में आती है तो ठीक है नही तो पार्टी को बहुत नुकसान होगा। क्योकि पार्टी  में असन्तुश्ठ नेताओं की लम्बी कतार बन रही है जो पार्टी के लिए बडा सरदर्द है। अब चुनाव परिणाम ही बतायेगें कि क्या होगा।


दुर्गेश रणाकोटी 
कारगी, देहरादून 






Tuesday, April 8, 2014

मोदी जी अपने राजनीति गुरु आडवाणी जी के साथ



  मोदी जी ने अपने राजनीति गुरु आडवाणी जी के साथ उनके गाधीनगर से चुनाव में नामांकन भरने  के समय उनके साथ जाकर पार्टी में एकजुटता का संदेश दिया है। और सभी को साथ लेकर चलने से पार्टी में एकजुटता रहेगी और सभी पार्टी के नेता और कार्यकर्त्ता में उत्साह भी होगा।